Your notification message!

Selected:

कबीर

270.00

कबीर

270.00

लेखक : क्षितिमोहन सेन

अनुवादक : रणजीत साहा

Categories: , ,
Add to Wishlist
Add to Wishlist

Description

कबीर द्वैतवादी या अद्वैतवादी नहीं थे। उनके मतानुसार समस्त सीमाओं को पूर्ण करने वाला ब्रह्म समस्त सीमाओं से परे है-सीमातीत। उनका ब्रह्म काल्पनिक (Abstract) नहीं है, वह एकदम सत्य (Real) है, समस्त जगत उसका रूप है। समस्त विविधता (वैचित्र्य) उस अरूप की ही लीला है। किसी कल्पना के द्वारा ब्रह्म का निरूपण करने की आवश्यकता नहीं, ब्रह्म सर्वत्र विराज रहा है, उसे सहज के बीच विन्यस्त (निमज्जित) करना होगा। कहीं आने-जाने की आवश्यकता नहीं है। जैसा है, ठीक वैसा रहकर ही उसमें प्रवेश करना साधना है।

Quick Navigation
×
×

Cart